Exam की तैयारी कैसे करे - How to prepare for exam - Exam Prepare -->

Latest

Apr 7, 2018

Exam की तैयारी कैसे करे - How to prepare for exam

Exam की तैयारी कैसे करे - How to prepare for any Exam

जो अभ्यर्थी यह सोचता है कि में यह किताब पढूंगा या यह सामग्री पढूंगा, इतना पढूंगा, इस समय पढूंगा इत्यादि.... वो दरअसल सोचता ही हैं उससे हो कुछ नहीं पाता ,क्योंकि वो अपना समय इन बातों को सोचने में व्यर्थ कर देता हैं। फिर ज्यादा सोचकर कन्फ्यूज्ड हो जाता हैं, कंफ्यूजन की स्थिति में अब वह कई लोगों से परामर्श करेगा, परामर्श के चक्कर में बहुत सारी सामग्री इकट्ठी करेगा, और आख़िरकार समाग्री रूपी सागर में डूब जाएगा, तब तक परीक्षा का आयोजन भी हो जाएगा और परिणाम वही ढाक के तीन पात।  इससे बेहतर यह होता कि किसी सफ़ल या अनुभवी व्यक्ति को पाठ्यक्रम दिखा के ,सारगर्भित और प्रमाणिक सामग्री लाता। क्योंकि समाग्री प्रमाणिक जरूरी हैं कौटिल्य ने कहा था कि अगर मुझे पेड़ काटना हो तो में अधिकांश समय औज़ार तैयार करूँगा फिर कम समय मे पेड़ काट दूंगा, तो प्रमाणिक समाग्री चढ़े हुए औजार होते हैं, फिर उस सामग्री को 3-4 बार अच्छे से पढता और चौथी बार पढ़ने के साथ साथ शार्ट और सारगर्भित नोट्स भी तैयार कर लेता, ताकि परीक्षा पूर्व दोहराव अच्छे से हो सके, तो निश्चित रूप से सफल हो जाता।
exam tips, tips and tricks, exam prepare, examprepare, tips for prepare exam
How to prepare for the exam

लक्ष्य प्राप्त करने के सात चक्रव्यूह :

► हमें असफलता कभी नहीं तोड़ती, हम टूटते हैं अनियमितता (Irregularity) से। इसलिए अपने अध्ययन में नियमितता लायें। छह घंटा ही पढें लेकिन नियमित पढें।
► हम प्रतियोगिता से कठिन प्रश्न गलत करके कभी बाहर नहीं होते, हम बाहर तब होते हैं जब आसान से प्रश्न को गलत कर देते हैं। इसलिए अति विशेष के चक्कर में सामान्य चीजों को नजर अंदाज ना करें। सामान्य जानकारियों को भी अवश्य दुहरा लें।

► जैसे-जैसे आपके समर्पित लक्ष्य नजदीक आतें हैं आपकी इंद्रियां अति संवेदनशील होती जाती है। सामान्य समय में बड़ी बातों को हँस कर टालने वाला व्यक्ति भी परीक्षा के संक्रमण समय में छोटी-छोटी बातों से विचलित हो जाता है। इसलिए जब आप लक्ष्य के नजदीक हों तो कम बोलिए, जरुरत पड़ने पर ही बाहर निकलिए, कम से कम सामाजिक गतिविधियों में भाग लिजिए।
► मानसिक थकान/तनाव दूर करने का उपाय जरूर निकालिए, क्योंकि यह बहुत जल्द आपको बीमार कर देती हैं। इसलिए परीक्षा संक्रमण के दौरान पर्याप्त नींद, पूर्ण एवं पौष्टिक आहार, व्यायाम/योगा अवश्य करें। अन्यथा आपके वर्षों की मेहनत पर पानी फिर सकता है।
► विगत वर्षों में पूछे गये प्रश्नों को भी देंख लें। इससे अपने तैयारी का स्तर, पूछे जाने वाले प्रश्नों की प्रकृति, बदलते ट्रेंड के बारे में पता चलता है। साथ ही साथ आत्मविश्वास बढ़ता है।
► हर जीत का एक ही मनोविज्ञान है, वह है आपके जीत का जज्बा/हौसला। ज्यों ही आप हताश/निराश होतें हैं अपनी जंग हार जाते हैं। इसका एक ही उपाय है अपने लक्ष्य पाने का निरंतर चिंतन और उस दिशा में सार्थक प्रयास। 

Exam की तैयारी कैसे करे

► Memory को बढ़ने के लिए उसका Use बहुत ज़रूरी है, use न करने से Memory week होने लगती है। किसी matter को याद करने का नियमित अभ्यास करिये जो कुछ याद किया है उसे 24 घंटे बाद दोहराए। 24  घंटे  के बाद भूलने का क्रम प्रारम्भ हो जाता है। 7 दिन बाद हम उसे फिर भूलने लगते है इसलिए 7 दिन बाद याद किये हुए चैप्टर को दुबारा दोहराए। 1 month बाद पुनः दोहरा ले इससे आपका याद किया हुआ chapter लम्बे समय तक याद रहेगा
► सुविधाजनक मेज कुर्सी पर कमर सीधे करके बैठकर पढ़े लेट कर न पढ़े
► जब थके हो अथवा किसी कारण से परेशान हो तो न पढ़े

► आज का target आज ही पूरा करना है, कल पर मत टालिए कुछ दिन ऐसा करने से आपका confidence बढ़ेगा
► नियमित दिनचर्या सत्र के प्रारम्भ से ही बनकर चले एग्जाम से कुछ दिन पहले तनाव के नहीं रहेंगे तो एग्जाम में सफलता मिलेगी
► Starting में टारगेट बहुत उचे न बनाए जैसे जैसे लक्ष्य में सफलता मिलती रहेगी, मनोबल, आत्मबल बढ़ता रहेगा और उचे लक्ष्य भी प्राप्त होते रहेंगे
► पढ़ने के स्थान का उपयोग केवल पढाई में करें, अन्य कार्यो के लिए नहीं

► एक ही subject को लगातार 2 घंटे से अधिक न पढ़े Mind के अलग अलग हिस्से subjects को पढ़ते समय active होते है
► किसी भी विषय को याद करते समय heading बना ले जिससे दोहराते समय heading दोहराले
► सोने से पहले ज़रूरी नोट्स पढ़े ताकि वो सब mind में बैठ जाये
► एक बार में एक ही काम करने की आदत डाले ताकि आप उसे पुरे मन से कर सके
► पढ़ाई ही नहीं हर काम को पूरा मन लगाकर करे इससे आपकी आदत ऐसी ही पढ़ जाएगी तो पढ़ाई में भी पुरे मन से पढ़ पाएंगे
► जो गलतियां नहीं करता वो कुछ प्राप्त नहीं कर सकता असफलताएं और गलतियां सफलता की पहली शर्त है 
► कल का इंतज़ार मत करो कार्य करने का यही सबसे सही समय है
► सोने से पहले का समय revise  करने के लिए हैं , सुबह उठकर नया कुछ याद करें

Keep In Mind

तो दोस्तों अंत में, मैं बस इतना ही कहूंगा की, जितना देख सकते हो उतना बड़ा सपना देखों। जितना सोच सकते हो, उतना अच्छा सोचों। जितनी अच्छी आदतों को अपना सकते हो, बेशक अपनाओं। जितना डट कर मेहनत कर सकते हो, उतनी मेहनत किया करों। फिर एक दिन उतनी ही बड़ी कामयाबी मिलेगी, जितनी आपने सोच रखा हैं। असफलता के डर को भगाएं अपने लक्ष्य को पाने के लिए दिन रात एक करके मेहनत कर रहे हो करते रहो, अगर मंज़िल मिलेगी तो बहुत बड़ी बात होगी लेकिन अगर आज मन में यह सवाल उठ रहा है कि अगर खुदा-ना-खास्ता मन्जिल नहीं मिलेगी तो क्या होगा ? तो इस बात की टेंशन छोड़ो  क्या पता आज आप जो मंज़िल पाने की कोशिश कर रहे हों, उससे भी कई गुना बड़ी मन्जिल मिल जाए। इसलिए सतत् रुप से लगे रहो। मंजिल खुद व खुद मिल जायेगी बेवाक रहिये। बेफ्रिक रहिये।
बस कभी Give Up मत करिये! लगे रहिये बस !!

No comments:

Post a Comment